trust 728_90
राजपथ पर जवानों और विमानों ने दिखाया करतब, सांस्कृतिक विविधता ने बांधा समां ब्राजील के राष्ट्रपति जेयर बोलसोनारो की मौजूदगी में 71वें गणतंत्र दिवस को पूरे हर्षोल्लास के साथ मनाया गया

नई दिल्ली । ब्राजील के राष्ट्रपति जेयर बोलसोनारो की मौजूदगी में 71वें गणतंत्र दिवस को पूरे हर्षोल्लास के साथ मनाया गया। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने ध्वजारोहण कर समारोह की शुरुआत की। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, तीनों सेना प्रमुखों और प्रमुख रक्षा अध्यक्ष बिपिन रावत की मौजूदगी में राष्ट्रीय युद्ध स्मारक पर पुष्प चक्र अर्पित कर शहीदों को श्रद्धांजलि दी। पारंपरिक कुर्ता पजामा और जैकेट पहने हुए मोदी बाद में राजपथ पहुंचे और राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद तथा मुख्य अतिथि से मुलाकात की।

इस मौके पर प्रधानमंत्री ने भगवा पगड़ी पहनी हुई थी। राष्ट्रीय ध्वज फहराने के दौरान बैंड ने राष्ट्रगान बजाया और 21 तोपों की सलामी दी गई। गृह मंत्री अमित शाह, रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह और विदेश मंत्री एस. जयशंकर समेत मोदी सरकार के ज्यादातर मंत्री इस मौके पर मौजूद रहे। इसके अलावा पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह और एच डी देवेगौड़ा तथा कांग्रेस नेता गुलाम नबी आजाद भी उपस्थित थे। राजपथ पर गणतंत्र दिवस समारोह का समापन हो गया है। इस अवसर पर दुनिया ने भारत की सैन्य ताकत और सांस्कृतिक विविधता की झलक देखी।

राजपथ पर वायुसेना के सुखोई 30एमकेआई विमान ने 900 किमी प्रति घंटा की रफ्तार से उड़ान भरी। इस विमान को फ्लाइट लेफ्टिनेंट एस मिश्रा के साथ विंग कमांडर यत्रार्थ जौहरी उड़ा रहे थे। वायुसेना के पांच जगुआर विमानों ने 780 किमी प्रति घंटे की गति से राजपथ पर उड़ान भरी। इस समूह का नेतृत्व ग्रुप कैप्टन पारिजात सौरभ ने किया। नौसेना के डोर्नियर विमानों ने आकाश में शौर्य का प्रदर्शन किया। दो डोर्नियर विमानों को स्क्वाड्रन लीडर विकास कुमार और स्क्वाड्रन लीडर अभिषेक वशिष्ठ ने उड़ाया। राजपथ पर वायुसेना के लड़ाकू हेलीकॉप्टर अपाचे ने पहली बार उड़ान भरी। इन पांच हेलीकॉप्टरों के समूह का नेतृत्व विशिष्ट सेवा मेडल प्राप्त 125 हेलीकॉप्टर स्क्वाड्रन के कमांडिंग ऑफिसर मन्नारथ शीलू ने किया।

Close Menu